दरभंगा एयरपोर्ट की क्रेडिट और डेबिट का पुरा गेम प्लान पढ़िए

दरभंगा: अगर आपको दरभंगा एयरपोर्ट को लेकर हो रही लड़ाई सामान्य लग रही है तो मैं आपको बता दू ,ये सामान्य लड़ाई नहीं है, क्यूंकि दरभंगा एयरपोर्ट के रनवे से होकर दरभंगा से सांसद बनने की योजना बनाई जा रही है , एक ऐसी योजना जिसमे झा जी ,ठाकुर से लेकर मीडिया में बैठे चौधरी सब बैठे हुए है क्यूंकि सबको इसमें अपना फायदा नजर आ रहा है |

झा जी का महिमांडन ऊफान पे है , जैसे ही वो अपनी कोजी फोटो लगाते है , पत्रकार लोग ट्वीट करना शुरू कर देते है – हे झा जी ! आप न होते तो एयरपोर्ट तो दिवा स्वप्न ही रहता दरभंगा के लिए , झा जी मला आपने शरण में ले ल्यो | झा जी चवनिया मुस्कान देके उनको गले लगाते है और अगले दिन पूरा अखबार प्लेन उड़ाने लगता है|

गेम प्लान है क्या पूरा :

प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो के हिसाब से सरकार ने पंद्रह जून,2016 को अपनी सिविल एविएशन पालिसी रिलीज़ की थी जिसमे उड़ान यानी रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम के तहत देश में एयर कनेक्टिविटी को बढ़ावा देने के लिए छोटे एयरपोर्ट और एयरस्ट्रिप से नियमित रूप से चल रहे एयरपोर्ट को जोड़ने की बात कही गयी थी | इसमें नार्थ ईस्ट से लेकर उन सभी इलाकों को लाया गया जहाँ जाना एक मुश्किल काम है , हेलीकाप्टर और छोटे हवाई जहाज के मार्फ़त इन सबको जोड़ने की योजना बनाई गयी और विमानन कंपनियों से प्रस्ताव मंगवाए गए |

Civil Aviation Policy

अभी तक झा जी को एयरपोर्ट बनाने का कोई ख्याल नहीं आया था ,लेकिन दस्तावेज के हिसाब से सबसे पहले एयरपोर्ट के लिए पहल करने वाला अगर कोई व्यक्ति था तो वो थे दरभंगा के सांसद श्री कीर्ति आज़ाद , जिन्होंने जुलाई 2014 में तत्कालीन नागरिक उड्डयन मंत्री को एक पत्र लिख के समस्या से अवगत कराया था और दरभंगा एयरपोर्ट को चालु करवाने की मांग की थी | अगर ज्ञापन और पत्र लिख कर ही क्रेडिट लेना है तो इस हिसाब से कीर्ति आज़ाद का हक़ बनता है | मेक सेंस ?

letter

19780660_634740523392176_7634978907385862352_o

20157243_634740526725509_2443629860053184475_o

                                                      Kirti Azad Letter To Hon PM on December 2015

उड़ान स्कीम के अंतर्गत दरभंगा का नाम नहीं था पहले , इस योजना में पहले मधुबनी और भागलपुर के नाम थे लेकिन FICCI-KPMG द्वारा किये गए सर्वे में दोनों एयरपोर्ट से उड़ान के सञ्चालन को हरी झंडी नहीं मिल पायी और बिहार को उड़ान योजना के पहले चरण में कुछ हासिल नहीं हुआ | अप्रैल चार ,2017 के टेलीग्राफ में इस बारे में एक रिपोर्ट की थी जिसमे पटना एयरपोर्ट के डायरेक्टर ने कहा था कि – बिहार सरकार को खुद एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया को लिखना होगा इस बाबत में नहीं तो बिहार उड़ान योजना के लाभ से वंचित रह जायेगा | आगे वो कहते है कि भागलपुर के पास बहुत छोटा रनवे है , जबकि दरभंगा एयरस्ट्रिप एक आइडियल चॉइस होगी उड़ान योजना के लिए |

Bhagalpur

A Report by Nishant SIngh In Telegraph(1/2)

udaan scehme dbg

एयरपोर्ट बनाने की असली कवायद अप्रैल 2017 से शुरू होती है , उस वक़्त JDU और भाजपा अलग अलग थे लेकिन कीर्ति आज़ाद हमेशा से नितीश के करीबी रहे है , कीर्ति आज़ाद को जब लगा बिहार सरकार अगर प्रयास करे तो दरभंगा में एयरपोर्ट का सपना पूरा हो सकता है | पहले कीर्ति आज़ाद ने बहुत ही बेहतर स्ट्रेटेजी बनायीं बिहार सरकार पर दवाब बनाने के लिए , उसके लिए इस मुद्दे को एक कलेक्टिव एफर्ट देने के लिए प्रारूप तय किया गया |
उनको ये भी लगा कि ये अकेले करने से नहीं होगा ,उन्होंने पहले मिथिला क्षेत्र के सभी सांसदों को एक प्लेटफार्म पे इकठा किया और सीधा प्रधानमंत्री से मुलाक़ात की | इससे बिहार सरकार पे दवाब बनाया और फिर बिहार सरकार ने एयरपोर्ट अथॉरिटी को अविलम्ब दरभंगा एयरपोर्ट को उड़ान योजना में शामिल करने के लिए अनुरोध प्रेषित किया जिसकी पुष्टि RTI से भी होती है |

20031708_634742890058606_8817351653434529235_n

20031708_634742890058606_8817351653434529235_n

Kirti Azad and MPs of Mithila Meeting Prime Minister

effort

 

RTI Response

उड़ान योजना का दूसरा पड़ाव

उड़ान योजना के दुसरे पड़ाव की शुरुवात अगस्त 24 को हुई , सरकार ने विमानन कंपनियों से प्रस्ताव मंगवाने शुरू कर दिए और ये प्रक्रिया नवंबर,2017 को खत्म हो गयी |

इसी बीच नितीश ने जुलाई के अंत में इस्तीफ़ा सौंप दिया और और भाजपा से जा मिले | 2017 के मध्य तक झा जी पूरे लड़ाई में नहीं थे , वो भाजपा और जदयू के समझौते का इंतज़ार कर रहे थे , उसके विपरीत कीर्ति आज़ाद जिसको भाजपा बहुत पहले निकाल देती है , लेकिन वो प्रयास करना नहीं छोड़ता और लड़ाई को अंजाम तक पहुंचाने की पूरी कोशिश करता है और उसको पूरा भी करता है | लेकिन इसी बीच झा जी ने पूरी लड़ाई का क्रेडिट लेने के लिए एक चालाकी की और बिडिंग से ठीक दस दिन पहले जेटली जी के साथ एक फोटो अपने फेसबुक पे लगाते है और एक ज्ञापन देते है |

sanjay jha

ssss

इसके बाद शुरू होता है क्रेडिट गेम , जिसके पीछे दरभंगा के मौजूदा सांसद को इस लड़ाई से बाहर का रास्ता दिखाने की भरसक कोशिश हुई | लेकिन झा जी के पास अपने प्रयासों को लेकर कोई तथ्य नहीं थे , साथ था तो बस पत्रकार |कीर्ति आज़ाद के प्रयासों का सबूत उड्डयन मंत्री का जुलाई,2017 में लिखा खत भी देता है जो कि नीचे है , पढ़िए और तय कीजिये |

27583303_1537135113063856_1399143898_n

Letter Written By Jayant Sinha to Kirti Azad on July 2017 that they are waiting for the permission of IAF since Feb 03,2017

बिडिंग खत्म होते ही दिसंबर 2017 के महीने में एक लहर बनाने की कोशिश कि जिसमे बहुत से पत्रकार थे , उन्होंने ट्वीट्स किये और आर्टिकल लिखे और इस एयरपोर्ट के चालु होने का पूरा श्रेय झा जी को दे दिया और कीर्ति आज़ाद कि कोई चर्चा भी नहीं हुई है , यानी जो 2014 से प्रयास कर रहा हो उसको कुछ नहीं मिला और जिसने एक ज्ञापन और पिक शेयर कर दी , तो पूरा श्रेय उसको दे दिया गया | ये काम बहुत सुनियोजित तरीके से चल रही थी और झा जी उसको अपने ट्विटर पे रीट्वीट भी कर रहे थे , इसका मतलब वो इस काम को एकनॉलेज भी कर रहे थे | एक उदाहरण नीचे है :

27540187_1954846504544361_6277787729553061130_n

11

27655166_10157148113332619_398052889713839647_n

प्रक्रिया पूरी होने में वक़्त लगेगा , पचास एकड़ जमीन चाहिए , परमिशन भी आ जाये कुछ दिनों में और प्लेन उड़ भी जाए लेकिन इसकी स्पॉन्सर्ड मीडिया रिपोर्टिंग से मुझे दिक्कत है |लेकिन पूरे मीडिया रिपोर्टिंग से जानबूझ के कीर्ति आज़ाद को बाहर रखा गया है , ये एक तरह से किसी के प्रयासों की सामूहिक हत्या है जिसमे बहुत लोगो का भेस्टेड इंटरेस्ट है | ये एक माहौल बनाने का प्रयास है जिसमे कीर्ति आज़ाद को दरभंगा से बाहर करने का इरादा साफ़ झलक रहा है , आप काम करते है तो उसका क्रेडिट लीजिये , लेकिन किसी का हक़ मार के नहीं |ये एक घटिया बात है , एयरपोर्ट पे सारी RTI मैंने फाइल की थी लेकिन आजतक किसी अखबार ने उसको नहीं छापा , क्यों ? इसका जवाब किसी के पास नहीं है|

 

 

सह्भार: Dhairyakant Mishra

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *