सत्ता के लिए नहीं बल्कि व्यवस्था परिवर्त्तन है लक्ष्य : मांझी

दरभंगा : पूर्व मुख्यमंत्री और हिन्दुस्तान आवाम मोर्चा सेकुलर के राष्टÑीय अध्यक्ष जीतनराम मांझी ने आज यहां कहा कि हमारी पार्टी सत्ता के लिए नहीं, बल्कि व्यवस्था परिवर्त्तन के लिए आई है. आगामी 8 अप्रैल को पटना के गांधी मैदान में गरीबों की महारैली होगी. जिसके माध्यम से गरीबों, शोषितों और पिछड़ों की आवाज सरकार तक पहुंचायी जायेगी. पूर्व मुख्यमंत्री श्री मांझी आज बहुद्देश्यीय भवन में आयोजित जिला सम्मेलन सह गरीब स्वाभिमान सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे. उन्होंने कहा कि बिहार में गरीबों की आबादी 70 प्रतिशत होने के बावजूद वह हाशिये पर रखे गये हैं. गरीबों का सत्ता में भागीदारी नहीं होना दुखद है. उन्होंने शराबबंदी का स्वागत करते हुए कहा कि शराब के नाम पर गरीबों के साथ अन्याय को बर्दास्त नहीं करेंगे. श्री मांझी ने कहा कि हमें 15 महीनों के लिए कुर्सी पर बैठाया गया था, लेकिन सिर्फ 9 महीने में ही हटा दिया गया. क्योंकि हम उस समय जो काम कर रहे थे वह बेइमानों को हजम नहीं हो रहा था. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार बनी तो हम अपने मुख्यमंत्रीकाल के 34 निर्णयों को लागू करेंगे. पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि पूरे देश में समान शिक्षा व्यवस्था लागू होनी चाहिए. इस मौके पर बिहार के पूर्व मंत्री वृषिण पटेल ने कहा कि देश को आजाद हुए 70 वर्ष हो गये. लेकिन गरीबी अभी भी मुंह बाये खड़ी है, जो भी सत्ता में होते हैं गरीबी हटाने व गरीब के विकास की बात करते हैं, लेकिन होता कुछ नहीं है. देश के 71 प्रतिशत आबादी अभी भी गरीब है. पूर्व मंत्री रविन्द्र राय ने कहा कि जब मांझी की सरकार थी, तो उस समय गरीबों का काम होता था. पूर्व मंत्री महाचन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा कि मांझी ने अपने मुख्यमंत्रीकाल में गरीब हितैषी महत्वपूर्ण निर्णय लिये थे. इस मौके पर हम के प्रदेश उपाध्यक्ष बीएल वैशयंत्री, सचिव ज्योति सिंह, युवा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष सिंह चन्द्रवंशी, फुल कुमार झा टेकटरिया, रमण कुमार मिश्रा, माधव झा, नीलम देवी, सुशीला देवी आदि ने विचार रखे. समारोह की अध्यक्षता हम के जिलाध्यक्ष आर. के. दत्ता ने किया.

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *